समर्थक

सोमवार, 11 मई 2009

आसमान में 'आंख !'


स्पेस ऑब्जरवेटरी हब्बल ने एकबार फिर हमें आसमान में आंख जैसे अदभुत आकार की तस्वीर भेजी है। मेरे एक मित्र ने मुझे बताया कि केदारनाथ की यात्रा शुरू हो चुकी है, ऐसे में आसमान में एक बार फिर शइव का तीसरा नेत्र नजर आया है। शिव का तीसरा नेत्र, हब्बल की इस तस्वीर की ये तुलना वाकई दिलचस्प है। इससे पहले भी हब्बल की एक तस्वीर को आसमान में नजर आया शिव का तीसरा नेत्र कहकर प्रचारित किया जा चुका है।
दरअसल ये तस्वीर एक प्लेनेटेरी नेबुला की है। नेबुला यानि गर्म गैसों और धूल का रंगबिरंगा घना बादल। प्लेनेटेरी नेबुला का प्लेनेट्स से कुछ लेना-देना नहीं। प्लेनेटेरी नेबुला बनते हैं किसी सितारे की मौत से, जब एक भयंकर धमाके के साथ सितारे का पूरा पदार्थ केंद्र से बाहर की ओर छिटक जाता है। भारी अल्ट्रावायलेट रेडिएशन की मौजूदगी इसके केंद्र को बेहद चमकीला बना देती है। हब्बल ने ये तस्वीर 3 मई को ली थी, लेकिन इसे जारी अब किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें