समर्थक

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

चंद्रयान-2 का डिजाइन तैयार

भारत ने अपने चंद्रयान-2 का डिजाइन बना लिया है। इसके लिए रूस का सहयोग लिया गया है। इस बार मून मिशन के लिए जाने वाले चंद्रयान में एक लैंडर और रोवर भी होगा, ताकि चांद की मिट्टी का सैंपल लिया जा सके और इससे मिलने वाले डेटा को धरती पर भेजा जा सके। इसरो के चेयरमैन जी. माधवन नायर ने बताया, फिलहाल, डिजाइन तैयार है। हमने रूसी वैज्ञानिकों के साथ इसका एक जॉइंट रिव्यू किया है। इसरो के मुताबिक, चंद्रयान-2 में एक ऑर्बिटल फ्लाइंग वीइकल होगा, जिसमें एक ऑर्बिटल क्राफ्ट और एक लूनर क्राफ्ट होगा जो लूनर ट्रांसफर ट्रेजेक्टरी तक सॉफ्ट लैंडिंग सिस्टम को ले जाएगा। चंद्रमा पर उतरने वाले इस लैंड रोवर की लोकेशन चंद्रयान-1 द्वारा भेजे गए डेटा से तय होगी। इसरो की जिम्मेदारी होगी ऑर्बिटर डिवेलप करना और रूस लैंडर और रोवर बनाएगा। बाकी के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण दुनिया भर की साइंटिफिक कम्युनिटीज से जुटाए जाएंगे। माधवन नायर का कहना था कि अब जबकि डिजाइन तैयार हो चुका है, हमारा अगला कदम होगा चंद्रयान-2 का एक नमूना बनाना। यह अगले साल तक तैयार हो जाएगा। नायर ने बताया कि चंद्रयान-1 मिशन से बहुत कुछ सीखने को मिला है। वह कहते हैं, मेरे ख्याल में हमें चांद की सतह से होने वाले हीट रेडिएशन के बारे में काफी कुछ जानने को मिला है। इसी के मुताबिक आने वाले स्पेसक्राफ्ट का थर्मल डिजाइन बनाया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें