समर्थक

शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

2012 और ‘माया टूरिज्म’


सेंट्रल अमेरिका का वो क्षेत्र जहां 1100 साल पहले प्राचीन माया सभ्यता मौजूद थी, वहां इस साल पर्यटन के जरिए पैसों की बरसात होने जा रही है। 21 दिसंबर 2012 को दुनिया के तबाह हो जाने की भविष्यवाणी भूल जाइए, मैक्सिको के अधिकारी इस साल उमड़ने वाली पर्यटकों की भारी भीड़ के लिए इंतजाम करने में जुटे हैं। यहां के एक खास राज्य बेलाइज, जिसे माया सभ्यता का केंद्र बताया जाता है, वहां पर्यटकों को ले जाने के लिए अतिरिक्त उड़ानों का इंतजाम किया जा रहा है। मैक्सिको की तरह ही ग्वाटेमाला को भी उम्मीद है कि माया सभ्यता को करीब से देखने-समझने के लिए पर्यटकों की भीड़ उमड़ेगी, जिससे उसके कुल पर्यटन कारोबार में 10 प्रतिशत तक का इजाफा हो सकता है। दरअसल प्राचीन माया सभ्यता जहां थी, वहां अब मैक्सिको, ग्वाटेमाला और पेरू जैसे लैटिन अमेरिकी देश मौजूद हैं और हर कोई माया सभ्यता के बचे-खुचे वंशजों के साथ मिलकर दुनियाभर के पर्यटकों को लुभाने में जुटा है। इस साल विंटर सोल्सटाइस 21 दिसंबर को तो इस पूरे इलाके में पर्यटकों का भारी जमावड़ा जुटने की उम्मीद है।
माया सभ्यता के वंशजों में से ज्यादातर बेलाइज में रहते हैं और ये पूरा साल इन लोगों के लिए किसी उत्सव जैसा ही है। बेलाइज टूरिज्म बोर्ड के मार्केटिंग डायरेक्टर यानिक डलहौजी बताते हैं कि 2012 न केवल हम माया सभ्यता के वंशजों के लिए, बल्कि पूरे बेलाइज शहर के लिए एक बेहद खास अवसर लेकर आया है। दुनियाभर के लोग हमारे समाज, हमारे तौर-तरीकों को समझने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं, ये हमारे लिए गर्व की बात है।
सेंट्रल अमेरिका के इन देशों में साल भर के लिए तमाम सारे सांस्कृतिक कार्यक्रम और पूजा-पाठ के आयोजन अभी से तय कर लिए गए हैं। इस पूरे क्षेत्र में कोई भी 2012 से घबराया हुआ नहीं है, बल्कि यहां के लोगों के लिए 2012 एक ऐसा त्योहार है, जो अब साल भर तक चलेगा। 

1 टिप्पणी:

  1. माया सभ्यता के बारें में जानकर अच्छा लगा, कृपया मुझे इस सभ्यता का पूरा इतिहास जानना है। क्या आप मेरी मदद करेंगे? तो इस id पे सम्पर्क करें (manoranjanprasad86@gmail.com)

    उत्तर देंहटाएं