समर्थक

सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

अंटार्कटिक का गर्म मौसम

वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि एक करोड़ 57 लाख वर्ष पूर्व अंटार्कटिक पर मौसम बहुत गर्म था। यह वह समय था जब यहां पौधे और शैवाल बहुतायत में थे। वैज्ञानिकों का यह शोध जलवायु परिवर्तन को समझने की दिशा में अहम कदम माना जा रहा है।
एलएसयू म्यूजियम ऑफ नेचुरल साइंस के नेतृत्व में एक अंतरराष्ट्रीय दल ने जीवाश्मों के विश्लेषण के आधार पर अंटार्कटिक में गर्म मौसम होने के प्रमाण पाए हैं। उनका कहना है कि अंटार्कटिक में गर्म मौसम का यह दौर कुछ हजार वर्षों तक रहा।
वैज्ञानिकों ने सूक्ष्म जीवाश्मों के लिए जिस 1,107 मीटर तलछट का अवलोकन किया, उसमें दो मीटर मोटी परत में वैज्ञानिकों को बड़ी मात्रा में जीवाश्म मिले। वैज्ञानिकों के अनुसार, तलछट की दो मीटर मोटी पर्त में बहुतायत में जीवाश्म मिलना अंटार्कटिक की बर्फ की परत की तुलना में असामान्य है।
अंटार्कटिक की परत लगभग 3.5 करोड़ वर्ष पुरानी है। ठंडे तापमान की वजह से यहां जलीय पौधे और शैवाल भी नहीं हो सकते। दल की प्रमुख सोफी वार्नी ने कहा नए शोध से हमें जलवायु परिवर्तन को समझने में मदद मिलेगी। दूसरे शब्दों में कहें तो इससे पता चलेगा कि कैसे बाहरी तत्वों ने पृथ्वी के जलवायु तंत्र को प्रभावित किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें